आगरा उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य

पारस हॉस्पीटल में 22 मरीजों की मौत का खुला राज

आगरा। डॉक्टर ने ऐसा कुकृत्य किया है कि पूरा पेशा शर्मिंदा हो जाए। सीधे-सीधे 22 मरीजों का मर्डर। पारस हॉस्पीटल के संचालक डॉ. अरिंजय जैन का वीडियो वायरल हुआ है, एक चैनल पर भी है जिसमें डॉक्टर खुलकर कह रहा है कि पहले मॉक ड्रिल यानी पूर्वाभ्यास हुआ कि आक्सीजन बंद करने से कितने मरीजों की जान जा सकती है और, अगले दिन पांच मिनट आक्सीजन आपूर्ति रोककर इन मरीजों की जान ले ली गई।
पेशेवर हत्यारा डॉक्टर बेशर्मी से कह रहा है- 26 अप्रैल के सुबह सात बजे ऑक्सीजन हटाने का मॉकड्रिल किया। जब आक्सीजन रोकी तो पांच मिनट में ही छंट गए 22 मरीज। पढ़िए बातचीत- 25-26 अप्रैल को जब कोविड पूरे उफान पर था, तब मेरे अस्पताल में 96 मरीज थे। आगरा में भी हाल खराब थे। हमने सोचा- मेरे बॉस अब समझ जाओ… डिस्चार्ज शुरू करो। आक्सीजन कहीं नहीं है, आपको बता दूं। कुछ लोग पेंडुलम बने रहे, नहीं जाएंगे-नहीं जाएंगे। मैंने कहा- छोड़ो, अब छांटो जिनकी आक्सीजन बंद हो सकती है। एक मॉक ड्रिल करके देख लो, समझ जाएंगे, कि कौन मरेगा या नहीं मरेगा। मॉक ड्रिल की तो छटपटा गए, नीले पड़ने लगे। और जब, आक्सीजन रोकी तो 22 छंट गए।

पिछली लहर में आगरा मंडल में कोरोना फैलाने पर मुकदमा झेलने वाले इस अस्पताल को कोवि़ड हॉस्पीटल बना कैसे दिया गया, इसका जवाब डीएम को देना होगा। बहरहाल, डीएम तत्काल गिरफ्तार कराये और रिमांड पर लेकर पूछा जाए कि बेड खाली कराकर बेइंतिहा पैसा लूटकर अब तक कितने लोगों की जान ले चुका है… यहां चूके और नाक कट जाएगी।

Live TV

GMaxMart.com

Our Visitor

1186516
Hits Today : 992
LIVE OFFLINE
track image
Loading...