आगरा उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य

विहीन परिवारों के बनेंगे निशुल्क़ आयुष्मान कार्ड, 16 सितम्बर से 30 सितंबर तक चलेगा विशेष अभियान

आगरा। आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के लाभार्थियों के आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ‘आपके द्वार आयुष्मान 2.0’ अभियान चलाएगा ।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अरुण कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के निर्देश पर 16 से 30 सितंबर तक आपके द्वार आयुष्मान 2.0 अभियान चलाया जाएगा।

अभियान के दौरान वर्ष 2011 में हुई सामाजिक आर्थिक जातिगत जनगणना में चिन्हित पात्र लाभार्थियों, मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान एवं उत्तर प्रदेश भवन निर्माण एवं संनिर्माण योजना के अंतर्गत पंजीकृत पात्र श्रमिकों के शत-प्रतिशत निशुल्क आयुष्मान कार्ड बनाए जाएंगे। ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्र में माइक्रो प्लान बनाकर ग्राम / वार्ड वार कैंप आयोजित होंगे। अभियान के दौरान ऐसे ग्राम व वार्ड को फोकस किया जाएगा, जिनमें आयुष्मान कार्ड विहीन लाभार्थियों की संख्या ज़्यादा है। लाभार्थियों की सूची सार्वजनिक स्थानों पर चस्पा करा दी जाएगी। इसके साथ ही कैंप से पूर्व ग्राम या वार्ड में माइक के माध्यम से जन सामान्य को सूचित किया जाएगा।

एसीएमओ तथा योजना के नोडल डॉ सुखेश गुप्ता ने बताया कि अभियान की सफलता के लिए मुख्य विकास अधिकारी की अध्यक्षता में टास्क फोर्स गठित की गयी है | इसमें अपर जिलाधिकारी नगर, उप श्रम आयुक्त, जिला पूर्ति अधिकारी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी के साथ-साथ पंचायती राज विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, आइसीडीएस विभाग, आदि के नोडल अधिकारी नामित किए गए हैं।

आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के ज़िला कार्यक्रम समन्वयक डॉ आशीष कुमार सिंह ने बताया कि आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना एवं मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान से आच्छादित परिवारों को प्रति वर्ष प्रति परिवार पांच लाख रुपए तक की निशुल्क उपचार की सुविधा है। योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए प्रत्येक लाभार्थी के पास आयुष्मान कार्ड होना अनिवार्य है हर लाभार्थी को आयुष्मान कार्ड उपलब्ध कराने के लिए सघन अभियान चलाया जाएगा।
ज़िला सूचना प्रबंधक प्रणाली गौरव कुलश्रेष्ठ ने बताया कि लक्षित परिवारों को योजना के प्रति जागरूक करते हुए आयुष्मान कार्ड कैंप तक लाने एवं उनका आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा। योजना की जागरूकता के लिए आशा द्वारा प्रत्येक लाभार्थी परिवार को पैम्फ़लेट उपलब्ध करा दिए गए हैं। प्रति कार्ड 30 रुपए का शुल्क होने के कारण लाभार्थी कार्ड बनवाने में रुचि नहीं ले रहे थे इसलिए अब लाभार्थी को कार्ड बनवाने के लिए कोई धनराशि नहीं देनी होगी। कैंप की निर्धारित तिथि से पूर्व संबंधित आशा द्वारा गांव के लाभार्थी परिवारों में आयुष्मान कार्ड कैंप स्थल की जानकारी पर्ची के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी। पर्ची पर परिवार के मुखिया का नाम, कैंप स्थल एवं कैंप की तिथि अंकित होगी।
योजना के ज़िला शिकायत निवारण अधिकारी दुष्यंत दत्त ने बताया कि आयुष्मान कार्ड बनवाने का तरीका
-जो भी लाभार्थी है, उसे प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत एक पत्र या कार्ड भेजा गया है, उसके आधार पर पता चल जाता है कि वे आयुष्मान के लाभार्थी हैं, इसके साथ ही लाभार्थियों की सूची को कोटेदारों को दे दी जाएगी। आशाएं भी घर पर जाकर लाभार्थी को एक पर्ची देंगी, जिससे पता चल जाएगा कि वे आयुष्मान योजना के लाभार्थी हैं। आशाएं आयुष्मान कार्ड को बनाए जाने वाले कैंप के बारे में भी जानकारी देंगी। उन्होंने बताया कि यदि कोई परिवार में नया सदस्य जुड़ता है तो उसे भी आयुष्मान योजना में जोड़ा जा सकता है।

लेबर बोर्ड ने श्रमिकों की सूची प्राप्त करा दी है अभियान जो चलने वाला है। इसमें श्रमिकों के कार्ड भी बनाए जाएंगे। आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना के अंतर्गत ट्रांसप्लांट को छोड़कर सभी बीमारियो का इलाज किया जाता है जनपद में योजना के तहत चयनित लाभार्थियों की संख्या 877550 है।
डॉ. अरूण कुमार श्रीवास्तव, सीएमओ

About the author

india samachar

Add Comment

Click here to post a comment

Leave a Reply

Live TV

GMaxMart.com

Our Visitor

1247143
Hits Today : 1223