लेख साहित्य

बेटी दिवस पर….

बेटे-बेटी में कभी, भेद न करिये आप।
तुलना जो इनकी करें, वो करते हैं पाप।।
बेटे घर की शान यदि, बेटी घर की मान।
इन दोनों में ही बसे मातु-पिता की जान।।
बेटे को संस्कार दें, उत्तम रखे विचार।
सक्षम बेटी को करें, जो उत्तम उपहार।।

कर्नल प्रवीण त्रिपाठी, नोएडा/ उन्नाव, 26 सितंबर 2021

Live TV

GMaxMart.com

Our Visitor

1288714
Hits Today : 7685