image

15 अगस्त से पहले फिर कर्नाटक सीएम बदलेगी भाजपा? अमित शाह के दौरे के बाद अटकलें तेज

खबरें आ रही हैं कि पूर्व सीएम जगदीश शेट्टार और मंत्री गोविंद करजोल अगले सीएम के लिए कतार में आगे खड़े हैं। हालांकि भाजपा के इन दोनों नेताओं ने इन रिपोर्टों का खंडन किया है।

बिहार की सत्ता से बाहर हुई भारतीय जनता पार्टी अब कर्नाटक पर फोकस कर सकती है। कर्नाटक भाजपा एक बार फिर से अपने मुख्यमंत्री को बदल सकती है। पिछले हफ्ते केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्य का दौरा किया था। इसके बाद से कर्नाटक में मुख्यमंत्री पद में एक और बदलाव की अटकलें तेज हो गई हैं। दक्षिण कन्नड़ जिले में एक युवा नेता की हत्या के बाद से कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई पार्टी के भीतर ही गंभीर आलोचना के घेरे में आ गए हैं। 6 अगस्त को बोम्मई कोविड-19 से संक्रमित हुए थे। जिसके बाद उन्होंने नई दिल्ली का अपना दौरा भी रद्द कर दिया। 

बोम्मई कथित तौर पर 3 अगस्त को अमित शाह की यात्रा के दौरान अलग-थलग दिख रहे थे। मुख्यमंत्री 6 और 7 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठकों में भाग लेने के लिए दिल्ली जाने वाले थे, लेकिन पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्होंने अपनी यात्रा रद्द कर दी। दिल्ली दौरे के रद्द होने के अलग-अलग मायने निकाले जा रहे हैं। भाजपा नेताओं का मानना है कि सीएम शायद कुर्सी से हटा दिए जाएं। 

सीएम बोम्मई ने रद्द किया दिल्ली दौरा 

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सीएमओ के करीबी सरकारी सूत्रों ने कहा, “ऐसी अटकलें हैं कि सीएम बोम्मई ने अपना दिल्ली दौरा इसलिए रद्द किया क्योंकि पार्टी नेतृत्व उनसे पद छोड़ने के लिए कह सकता था। लेकिन यह सच नहीं है। कोविड पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्होंने दौरा रद्द किया।"

दरअसल इस तरह की भी खबरें आ रही हैं कि पूर्व सीएम जगदीश शेट्टार और मंत्री गोविंद करजोल अगले सीएम के लिए कतार में आगे खड़े हैं। हालांकि भाजपा के इन दोनों नेताओं ने इन रिपोर्टों का खंडन किया है। लेकिन इस तरह की अटकलों का सामने आना इस बात का सुझाव देता है कि भाजपा नेतृत्व में संभावित बदलाव को लेकर चर्चा कर रही है। इस बीच, मंत्री उमेश कट्टी ने कहा है कि मुख्यमंत्री पद में बदलाव की स्थिति में उनकी भी दावेदारी होगी।

15 अगस्त से पहले फिर कर्नाटक सीएम बदलेगी भाजपा?

येदियुरप्पा खेमे के करीबी माने जाने वाले भाजपा के एक पूर्व विधायक ने कहा है कि कर्नाटक के सीएम को 15 अगस्त से पहले भी बदला जा सकता है। भाजपा के पूर्व विधायक सुरेश गौड़ा ने सोमवार को तुमकुरु में कहा, “स्वतंत्रता दिवस से पहले भी सीएम बदला जा सकता है। पार्टी में कुछ बात हुई है।” 

राज्य सरकार के सूत्रों के अनुसार, भाजपा नेतृत्व कर्नाटक में अपनी सरकार को लेकर चिंतित है। नेतृत्व पार्टी कार्यकर्ताओं की हत्या और खराब प्रशासन सहित हाल के हफ्तों में विभिन्न मुद्दों के कारण अपनी विश्वसनीयता खोने से परेशान है। भाजपा शीर्ष नेतृत्व कथित तौर पर पार्टी में गुटबाजी से भी चिंतित है। नेतृत्व को लगता है कि गुटबाजी 2023 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनावों में पार्टी की तैयारियों में बाधा डाल सकती है। द इंडियन एक्सप्रेस ने सरकारी सूत्रों के हवाले से लिखा, “बीजेपी पूर्व सीएम येदियुरप्पा के खुद को पार्टी से दूर रखने और संभावित नतीजों से चिंतित है और इन मुद्दों को भी संबोधित करना चाहती है।" 

येदियुरप्पा से मिले अमित शाह

बताया जाता है कि अपनी कर्नाटक यात्रा के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री बसावराज बोम्मई तथा राज्य के वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ हाल के घटनाक्रम एवं पार्टी के संगठनात्मक मुद्दों पर चर्चा की। पार्टी सूत्रों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। यह भी बताया जाता है कि शाह ने प्रदेश भाजपा के कद्दावर नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा के साथ भी विचार-विमर्श किया। वह भारत की आजादी के 75 वें साल पर भारतीय उद्योग परिसंघ के आज के ‘संकल्प से सिद्धि’ कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए बुधवार रात को यहां पहुंचे थे।

यह भी पढ़ें

Breaking News!!