image

मदरसा सर्वेक्षण पर अनावश्यक  राजनीति 

मृत्युंजय दीक्षित 

उत्तर प्रदेश सरकार मदरसों में शिक्षा प्राप्त कर रहे बच्चों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए मदरसों का सर्वे करा रही है । इस सर्वे का विरोध करने के नाम पर मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले दल व संगठन एक बार फिर जीवंत हो उठे हैं । प्रदेश सरकार का मुख्य उद्देश्य मदरसों को मुख्यधारा में लाना है। सरकार छात्रों व अध्यापकों को शिक्षा के आधुनिक तरीकों  से जोड़ने की कवायद कर रही है। मदरसा सर्वे के 12 बिंदु तय किये गये हैं जिसमें मदरसों की गवर्निंग कैसी होती है ? इन्हें पैसे कहां से आते हैं? पाठयक्रम क्या है। आदि सवालों का उत्तर देना है। 
मदरसों के सर्वे के लिए जो फॉर्म बनाया गया है उसमें मदरसे को संचालित करने वाली संस्था का नाम, स्थापना का वर्ष , मदरसा निजी भवन में चल रहा है या किराए के भवन में चल रहा है? क्या मदरसे का भवन छात्रों के लिए उपयुक्त है ? इस फॉर्म में पेयजल ,फर्नीचर, शौचालय  आदि सुविधाओं आदि के बारे में भी बताना होगा। मदरसे में शिक्षकों  की संख्या का विवरण भी देना है। मदरसों की आय का स्रोत भी बताना होगा। क्या इन मदरसों में पढ़  रहे छात्र कहीं और नामांकित हैं? जैसे सवालों के उत्तर देने हैं। क्या किसी गैर सरकारी संस्था या समूह से मदरसे की संबद्धता  है ? अगर हां तो इस संबंध में पूरा विवरण देना होगा। अंतिम कॉलम अभियुक्ति का रखा गया है इसमें सर्वे कर्ता तमाम बिन्दुओं पर अपनी टिप्पणी लिख सकते हैं। 
मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले दल व संगठन तथा नेता इस सर्वे का पुरजोर विरोध कर रहे हैं। मुस्लिम नेताओं व मौलवियों की धमकियों  के बावजूद मुख्यमंत्री के आदेशानुसार प्रदेश भर में मदरसों का सर्वे अभी तक शांतितिपूर्वक चल रहा है। कुछ मौलाना लगातार उत्तेजक भाषण देकर मुस्लिम समाज को भड़काने का  प्रयास लकर रहे  हैं। ऑल इंडिया इमाम एसोसिएश न के अध्यक्ष मौलाना रशीदी ने कहा  कि वह मदरसों से अपील करते हैं कि नोटिस लेकर आने वाले सर्वे टीम का स्वागत चप्प्पल -जूते से करें। 
मदरसों  का सर्वे कराने के मुददे पर एआईएमआईएम सांसद अस्सदुदीन ओवैसी और जमीयत उलेमा- ए- हिंद के मौलाना सैयद अरशद  मदनी लगातार आग उगल रहे हैं। सांसद असदुदीन ओवैसी जो कि खुद एक बहुत महंगे स्कूल में पढ़े लिखे हैं और उनके परिवार के सभी बच्चे भी मदरसों की शिक्षा से दूर हैं वह भी मुस्लिम समाज के सबसे बड़े हितैशी बनने की चाहत में मुस्लिम समाज को मदरसों के सर्वे के खिलाफ भड़का  रहे हैं और इसे छोटा एनआरसी बता रहे हैं। वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संगठन विद्या भारती द्वारा संचालित सरस्वती शिशु  मंदिरों और सरकारी स्कूलों के सर्वे की भी मांग उठा रहे हैं। 
मदरसों के सर्वे का विरोध प्रदेश के वह सभी राजनैतिक दल कर रहे हैं जिनका बड़ा आधार मुस्लिम वोट बैंक रहा है । समाजवदी और बहुजन समाजवादी पार्टी दोनों बयानबाज़ी में एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ में हैं  । पार्टी  के मुस्लिम सांसद और  विधायक भी विरोध के नाम पर मुस्लिम  समाज को भड़काने का भरपूर प्रयास कर रहे हैं तथा अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं।  बसपा नेत्री मायावती ने कहा कि, ”भारतीय जनता पार्टी के शासन में मुस्लिम समाज का दमन किया जा रहा है। मदरसों की जांच के नाम पर भाजपा की मदरसों पर नजर है।“ मायावती का कहना है कि पहले कांग्रेस के शासनकाल में इस तरह की संकीर्ण राजनीति के कारण इस समुदाय को तुष्टिकरण की राजनीति का शिकार होना पड़ा और अब यह सिलसिला भाजपा की सरकारों में भी जारी हैं । मायावती का कहना है कि मुस्लिम समाज के शोषित, उपेक्षित व दंगा पीड़ित होने आदि की शिकायतें कांग्रेस के जमाने में आम रही है फिर भी बीजेपी द्वारा तुष्टिकरण के नाम पर संकीर्ण राजनीति करके सत्ता में आ जाने के बाद अब इनके दमन व आतंकित करने का खेल अनवरत जारी है। जबकि वास्तविकता क्या है यह पूरा प्रदेश व देश जानता है। 
मुंबई के इस्लामिक संगठन रजा अकाडमी के प्रमुख मौलाना सईद नूरी ने भी सर्वे पर आपत्ति जताते हुए कहा कि अगर सरकार सभी मदरसों को मान्यता देना चाहती है तो ठीक है लेकिन हकीकत यह है कि सरकार मदरसों का भला नहीं करना चाहती । वह तो मदरसों की आड़ में वातावरण को सांप्रदायिक बनाना चाहती है। देवबंद के मौलाना मसूद मदनी का कहना है कि सरकार गैर मान्यता प्राप्त मदरसों के सर्वे के नाम पर गरीब मुसलमानों के बच्चों को पढ़ने से रोकना चाहती है। एक प्रकार से सभी मुस्लिम नेता व संगठन सर्वे का कड़ा विरोध कर रहे हैं । 
अच्छी बात ये है कि सेक्युलर नेताओं और व मौलनाओं के विरोध के बाद भी  मदरसों  के सर्वे का काम शांति तिपूर्वक चल रहा है । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 2017 में ही मदरसों के आधुनिकीकरण की पहल की थीं । उन्होंने 2017 में एक पोर्टल बनाया था जिसमें सभी मदरसों को रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करने की इजाजत दी गई थी । अब तक 16,513 मदरसों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है और जिनमें से 558 मदरसों को सरकारी अनुदान मिल रहा है। योगी सरकार ने मदरसों के पाठयक्रम में एनसीईआरटी की पुस्तकों को शामिल किया गया है। मदरसे के छात्रों के लिए एक लर्निंग एप लांच किया गया है तथा मदरसों में परीक्षा के दौरान नकल रोकने के लिए वेब कैम लगवाए और सबसे ज्यादा नंबर पाने वाले छात्रों को एक लाख रूपये और टैबलेट भी दिये गये हैं। हर घर तिरंगा  अभियान के अंतर्गत अभी हाल ही में कई मदरसों में तिरंगा फहराया गया। 
मदरसों के छात्रों को शिक्षा की मुख्यधारा में लाने के लिए राज्य सरकार ने पाठयक्रम में आधुनिक विषयों गणित, अंग्रेजी, विज्ञान , हिंदी आदि को अनिवार्य करने का निर्णय लिया है और मदरसों में पढ़ने वाले सभी छात्र सरकार की नीति से बहुत खुश  हैं । सर्वे के विरोध के बीच सभी मुस्लिम नेताओं को यह भी पता करना चाहिए कि जिन मदरसों  में आधुनिक पाठयक्रम पढ़ाया जा रहा है क्या वहां पर पवित्र कुरान और धर्म की शिक्षा देना बंद कर दिया गया है ? अब मुस्लिम कट्टरपंथियों के बहकावे में आकर कई छात्र यह मांग करने लग गये हैं कि मदरसों में आधुनिक शिक्षा तो सही कदम है लेकिन मदरसों में दीनी तालीम से छेड़छाड़ न की जाये क्योकि हम सभी छात्र यहां पर दीनी तालीम लेने आते हैं। 
मुस्लिम संगठनो का सर्वे को लेकर डर वाजिब है क्योंकि इससे उनके विरोध की सच्चाई सामने आ जाएगी। प्रदेश व देश के कई हिस्सों में अवैध मदरसे चल रहे हैं तथा जिनमें कई देश विरोधी गतिविधियां चल रही हैं तथा कई लोग पकड़े भी गये हैं। असम में अवैध मदरसों पर कार्यवाही के दौरान  तीन मदरसों से 37 कुख्यात आतंकी पकड़े गये हैं जिनका सम्बन्ध कुख्यात आतंकी संगठन अल कायदा और बांग्लादेशि  संगठन अंसारूल्लह बांग्ला से बताया जा रहा है। मदरसे चलाने की आड़ में ये लोग देश विरोधी गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल थे।  उत्तराखंड सरकार ने भी मदरसों का सच जानने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की तर्ज पर सर्वे कराने का निर्णय लिया है।  
उत्तर प्रदेश में अवैध मदरसों की फसल लहलहा रही है। श्रावस्ती जिले में 62 किमी सीमा नो मैंस लैंड से मिलती है । इस सीमा पर अवैध रूप से गांव बस गये हैं और अवैध मदरसे भी संचालित हो रहे हैं लेकिन खुफिया एजेंसियों व सुरक्षा बलों के अफसर भी कुछ कहने की स्थिति में नहीं हैं। अमेठी में चारागाह की जमीन पर बना अवैध मदरसा बुलडोजर से ध्वस्त किया गया है। अनेक मदरसो में अवैध गतिविधियां चलती रहती हैं जिनका समय- समय पर खुलासा होता रहता है। नेपाल सीमा से सटे क्षेत्रों मे अवैध मदरसों की बाढ़ आ गई जहां पर पता चला है कि मदरसों में छात्र तो भारतीय हैं लेकिन उनको पढ़ाने वाले शिक्षक  नेपाल से आते हैं जिनका कोई विवरण नहीं मिला।  मदरसों में आज भी औरंगजेब के समय की कटटर तालीम दी जा रही है। प्रदेश के कई मदरसें में आतंकवादी पकड़े गये हैं। मदरसों के कई मौलाना दुराचार जैसी वारदातों में संलिप्त पाये गये हैं। 
अभी हाल ही में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने कहा कि ओवैसी सहित सभी मुस्लिम नेता झूठ बोल रहे हैं। यूपी सरकार को बच्चों की सिथति के बारे में पूछने और उन्हें शिक्षा प्रणाली में फिर से शामिल करने का पूरा अधिकार है। आयोग की रिपोर्ट से पता चलता है कि 1.10 करोड़ से अधिक बच्चे गैर मान्यता प्राप्त और गैर मानचित्रित मदरसों में पढ़ रहे हैं। प्रियांक कानूनगो का कहना है कि ओवैसी जैसे नेता झूठ बोलकर अल्पसंख्यक समाज को गुमराह कर रहे हैं। आयोग की रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि मदरसों और शिक्षा का संचालन करने के लिए 10 हजार करोड़ का फंड आया लेकिन वह कहा गया और कहां खर्च हुआ कुछ पता नहीं है जबकि मदरसों के छात्रों व अध्यापकों को किसी भी प्रकार की सहायता नहीं मिल रही और नहीं छात्रों की संख्या बढ़ी है। अभी हाल ही में लखनऊ व उसके आसपास के कई मदरसों में आपराधिक गतिविधियों का खुलासा हुआ था जिसके कारण भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सक्रिय हुए और उन्होंने सर्वे कराने का यह कदम उठाया। प्रियांक कानूनगो  का कहना है कि सभी मुख्यमंत्रियों को बच्चों के अधिकारों के लिए अपने -अपने राज्यों में सर्वे कराना चाहिए। अनुच्छेद -30 कर तर्क लागू नहीं होगा क्योंकि सरकार उन बच्चों के अधिकारों की संरक्षक है जो स्कूल से बाहर हैं।  स्कूल न जाने वाले बच्चों के विषय में जाने के लिए हमें मदरसों के अंदर जाना ही होगा। 
प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष बासित अली ने कहा कि गैर मान्यता प्राप्त मदरसों में बाल अधिकारों का हनन हो रहा है। चंदे से यहां के मौलाना मौज उड़ा रहे हैं । ऐसे में यह जरूरी है कि इनका सर्वे हो। अली का कहना है कि कई जगहों पर गैर मान्यता प्राप्त मदरसे ऐसी गलियां में चल रहे हैं कि जहां आग लग जाये तो फायर ब्रिगेड की गाड़िया जा ही नहीं सकती। मिड -डे- मील योजना का लाभ नहीं मिल रहा। प्रदेश सरकार में मत्स्य पालन विभाग के मंत्री संजय निषाद बड़ा हमला बोलते हुए कह रहे हैं कि मदरसों से आतंकियों और अपराधिययों के लिंक मिलते हैं। मदरसों में उन्माद करना ही पढ़ाया जाता है। अब मदरसों की हालत सुधारकर बच्चों  को बेहतर ज्ञान दिलाया जायेगा। अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री दानिष आजाद अंसारी का कहना है कि मदरसों के सर्वे में किसी को भयभीत होने की जरूरत नहीं है। यह केवल इसलिए हो रहा है कि  गैर मान्यता प्राप्त मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को भी सभी प्रकार की सरकारी सुविधाएं मिल सकें। 

यह भी पढ़ें

Breaking News!!