image

छेड़छाड़ की शिकायत पर थाने से भगाया महिला ने की खुदकुशी

यूपी सरकार लाख दावे करे महिलाओं की सुरक्षा के लेकिन हकीकत इससे परे ही है। आए दिन होने वाली हिंसाओं का आकड़ा यह साफ-साफ बताता है कि यूपी सरकार के...

यूपी सरकार लाख दावे करे महिलाओं की सुरक्षा के लेकिन हकीकत इससे परे ही है। आए दिन होने वाली हिंसाओं का आकड़ा यह साफ-साफ बताता है कि यूपी सरकार के प्रतिदिन नए कानून नहीं लोगों में सोच बदलने की आवश्यकता है। सरकार महिलाओं को सुरक्षा देने के लिए हर रोज नए नए कानून तैयार कर रही है। ट्रोल फ्री नंबर और अलग से महिला सेल की नियुक्ति कर चुकी है। लेकिन थानों में आज भी महिला सुरक्षा को लेकर पुलिस में कोई संवेदना दिखाई नहीं देती है। इसका जीता जागता प्रमाण आगरा खंदोली थाने पर देखने को मिला जब यहां आई एक महिला की सुनवाई नहीं हुई तो उसने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला ही समाप्त कर ली।

आगरा खंदौली क्षेत्र के गांव में महिला से छेड़छाड़ के बाद थाना पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। गुरुवार रात महिला ने फंदे लटककर खुदकुशी कर ली। आरोप है कि पुलिस के कार्रवाई न करने से आहत होकर महिला ने यह कदम उठाया है। परिजन पुलिस का विरोध कर रहे है। महिला का शव नहीं उठाने दे रहे हैं। लापरवाही पर पुलिस आयुक्त ने खंदौली थाने के दरोगा को लाइन हाजिर कर दिया है।

25 वर्षीय महिला के साथ बुधवार शाम घटना हुई थी। गांव के संदीप पर छेड़छाड़ का आरोप है। आरोप है कि आरोपित ने हाथ पकड़कर खेत में खींचने की कोशिश की। महिला के शोर मचाने पर आरोपित भाग गया था। गुरुवार दोपहर 12 बजे महिला के ससुर के साथ थाने गई थी। आरोप है कि वहां एसआई अर्जुन सिंह से उन्होंने शिकायत की। एसआई ने उनसे कहा कि पूरा गांव एक दूसरे पर आरोप लगाता रहता है।दारोगा ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। महिला और उनके ससुर वापस आ गए। गुरुवार शाम सात बजे गांव के कुछ लोगों को लेकर वे फिर पीड़िता को लेकर थाने पहुंचे। थाने में फिर उन्हें दरोगा अर्जुन सिंह मिले। आरोप है कि भगा दिया। रात को महिला ने खुदकुशी कर ली। शुक्रवार सुबह महिला कमरे से बाहर नहीं निकली तो ससुर ने कमरे में देखा। वह फंदे से लटकी हुई थी। तब तक उसकी सांसें थम चुकी थीं। घटना की जानकारी होते ही शुक्रवार सुबह सहायक पुलिस आयुक्त रवि कुमार गुप्ता फोर्स के साथ पहुंच गए। परिजन पुलिस का विरोध कर रहे हैं। वे महिला का शव पुलिस को नहीं उठाने दे रहे हैं। पुलिस आयुक्त डा. प्रीतिंदर सिंह का कहना है कि प्रथमदृष्टया दरोगा अर्जुन सिंह की लापरवाही देखते हुए लाइन हाजिर किया गया है।

यह भी पढ़ें

Breaking News!!