image

क्या फिर से कप्तानी करना चाहते हैं सरफराज अहमद?

क्या सरफराज अहमद फिर से पाकिस्तान की टेस्ट टीम की कप्तानी करना चाहते हैं? बोले- जब तक बाबर आजम कप्तान हैं, हमारा काम उनका पूरा समर्थन करना है। हालांकि, बाबर आजम कई मैच हार चुके हैं।

पाकिस्तान के विकेटकीपर बल्लेबाज सरफराज अहमद ने कराची टेस्ट मैच की दूसरी पारी में शतक ठोका था, जिससे पाकिस्तान की टीम मैच बचाने में कामयाब रही। मुकाबले के बाद सरफराज अहमद को कप्तान बनाए जाने की मांग हुई तो एक पत्रकार ने उनसे उनकी इच्छा पूछ ली कि क्या वे फिर से टीम की कप्तानी करना चाहते हैं? इसके जवाब में पूर्व कप्तान ने कहा कि उनकी जिम्मेदारी बाबर आजम को तब तक समर्थन देना है जब तक वह कप्तान हैं।

सरफराज अहमद ने पहले तीनों प्रारूपों में टीम की कप्तानी की थी, लेकिन उनको खराब फॉर्म के कारण 2019 में कप्तानी से हटा दिया गया था। हालांकि, कई पूर्व क्रिकेटरों का मानना है कि वह मौजूदा कप्तान बाबर आजम की तुलना में रेड बॉल क्रिकेट में टीम का नेतृत्व करने के लिए बेहतर हैं। सरफराज अहमद ने चार साल के बाद टेस्ट टीम में वापसी की और लगातार तीन अर्धशतकों के बाद एक शतक ठोका। 

कराची में टेस्ट मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में सरफराज अहमद ने कहा, "चयन समिति में बदलाव हुए और मुझे मौका मिला। शाहिद भाई (अफरीदी) ने मुझे फोन किया और कहा कि मैं खेलूंगा। जब हम अपना अभ्यास कर रहे थे, तो कप्तान बाबर ने भी मुझसे कहा कि मैं खेलूंगा और मुझे तैयार रहने के लिए कहा। अल्लाह का शुकर है कि मुझे खेलने का मौका मिला।"

उन्होंने कप्तानी पर आगे कहा, "अच्छी चीजें होने लगी हैं। शाहिद भाई ने मेरे साथ क्रिकेट खेला है, उन्होंने मुझे खेलते देखा है। मुझे लगता है कि उच्चतम स्तर पर खेलने की आपकी क्षमता दो चीजों पर निर्भर करती है, फॉर्म और फिटनेस। अगर आपके पास फॉर्म और फिटनेस है, तो निश्चित रूप से आप 40 या 42 साल की उम्र तक खेल सकते हैं। आपने मुझसे कप्तानी के बारे में पूछा, देखिए, इस समय बाबर आजम कप्तान हैं, जब तक वह कप्तान हैं, उनका पूरा समर्थन करना हमारी जिम्मेदारी है।" 

यह भी पढ़ें

Breaking News!!