image

भ्रष्टाचार का पर्याय है, डॉ. भीमराव आम्बेडकर विश्वविद्यालय, आगरा

भीमराव आम्बेडकर विश्वविद्यालय

गत दिनों छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय(सीएसजेएमयू) कानपुर के कुलपति तथा डाॅ.भीमराव आम्बेडकर विश्वविद्यालय, आगरा के पूर्व कार्यवाहक कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक पर लगे अनियमितताओं, भ्रष्टाचार, जबरन चैथ वसूली, धमकी देने के लगे आरोपों की जाँच अब ‘केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो’(सी.बी.आइ.) को सौंपी गई, जिनकी अब तक जाँच एस.टी.एफ. कर रही थी। इसे लेकर लोगों की राय बँटी हुई है। जहाँ एक बड़ा तबका सी.बी.आइ.की जाँच को  बेहतर मानते हुए आरोपियों को दण्डित किये जाने की आशा व्यक्त कर रहा है, वहीं दूसरे वर्ग एस.टी.एफ. की जाँच को सही मान बताते हुए इसे आरोपियों को बचाने की साजिश रचने  की आशंका जताता रहा है। इसका कारण अभी तक प्रोफसर विनय कुमार पाठक को एस.टी.एफ.के बार-बार बुलाये जाने पर उनका अपनी सफाई में  बयान दर्ज कराने  नहीं आना। इसके बावजूद उन्हें अभी तक गिरपतार नहीं किया जाना है। यहाँ तक कि विश्वविद्यालय द्वारा उनका वेतन भी जारी कर दिया गया। इस बीच 18 जनवरी को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खण्ड पीठ ने कानपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.विनय कुमार पाठक तथा उनके साथ आरोपित बनाए गए प्राइवेट कम्पनी के मालिक अजय मिश्र की जमानत स्वीकार हो गई है।अब सी.बी.आइ. प्रो.पाठक पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाली कम्पनी के प्रबन्ध निदेशक को अपने दस्तावेज प्रस्तुत करने को कहा है।

बी.ए.एम.एस. परीक्षा की उत्तर पुस्तिका बदलने का मामला पिछले 27 अगस्त को सामने आया। इसके बाद पुलिस ने इस मामले में शामिल टेंपो चालक, डाॅक्टर, छात्र नेता और विश्वविद्यालय के कर्मचारी गिरपतार कर जेल भेजे गए
वस्तुतः विश्वविद्यालय में बी.ए.एम.एस. परीक्षा की उत्तर पुस्तिका बदलने का मामला पिछले 27 अगस्त को सामने आया। इसके बाद पुलिस ने इस मामले में शामिल टेंपो चालक, डाॅक्टर, छात्र नेता और विश्वविद्यालय के कर्मचारी गिरपतार कर जेल भेजे गए। इसी तरह का खेल  एम.बी.बी.एस. परीक्षा में भी चल रहा था। मामला उजागर होने के बाद जाँच एस.टी.एफ. को सौंप दी गई। इसके पश्चात् 29 अक्टूबर,2022 को पूर्व कार्यवाहक कुलपति डाॅ.विनय कुमार पाठक और एक्सएल आइसीटी कम्पनी मालिक अजय मिश्र के खिलाफ जानकीपुरम निवासी  डिजिटेक्स टेक्नोलाॅजी इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के प्रबन्ध निदेशक डेविड मारियो डेनिस द्वारा बिल का भुगतान कराने के नाम पर जबरन वसूली, धमकी, गाली-गलौज और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा में लखनऊ के इंदिरा नगर थाने में एक एफ.आइ.आर. दर्ज करायी गई थी। एस.टी.एफ. ने जाँच  के दौरान विश्वविद्यालय में परीक्षा सम्बन्धी कार्य देखने वाली डिजिटेक्स टेक्नालाजिज इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड के प्रबन्ध निदेशक डेविड मारियो डेनिस को पूछताछ के लिए बुलाया गया। लखनऊ के इंदिरा नगर थाने में दर्ज अभियोग में  विश्वविद्यालय के पूर्व कार्यवाहक कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक और एक्सएलआइसीटीसी कम्पनी के मालिक अजय मिश्रा पर बिल भुगतान के बदले 15प्रतिशत कमीशन लेने का आरोप लगाया। डेविड का आरोप  है कि प्रोफेसर पाठक ने अजय मिश्रा के माध्यम से कमीशन के रूप में उनसे  1.41लाख रुपए ले लिए। इनमें से कुछ एक कम्पनी के खाते में जमा कराए, जबकि  कुछ नकद लिए। अभियोग दर्ज होने के बाद लखनऊ एस.टी.एफ.टीम  ने जाँच शुरू कर दी। लखनऊ की टीम के साथ एस.टी.एफ. की आगरा यूनिट ने विश्वविद्यालय में जाँच की। परीक्षा, सम्बद्धता और निर्माण सम्बन्धी कार्यों के दस्तावेज कब्जे में लेने के साथ ही करीब 100बैंक खाते की जाँच की। 100से अधिक कर्मचारियों से पूछताछ की गई। कई शिक्षकों और अधिकारियों को बयान के लिए लखनऊ बुलाया जा चुका है।

वैसे जब लखनऊ के इंदिरा नगर थाने में जब कुलपति तथा उनके सहयोगी निजी कम्पनी के मालिक अजय मिश्रा के खिलाफ जब रिपोर्ट दर्ज हुई थी, तब  किसी को भी आश्चर्य नहीं हुआ। ताजुब्ब तो उन्हें जानकार हुआ है कि इतने दिनों बाद भ्रष्टाचारियों के खिलाफ किसी व्यक्ति ने  एफ.आइ.आर. कराने का हौसला दिखाया।

वैसे भी इस विश्वविद्यालय में भ्रष्टाचार का यह कोई पहला मामला नहीं है। डाॅ.भीमराव आम्बेडकर विश्वविद्यालय( पूर्ववर्ती आगरा विश्वविद्यालय),आगरा कभी विशाल क्षेत्र और अपनी उपलब्धियों के लिए देश के बड़े विश्वविद्यालयों में गणना होती थी, लेकिन कोई डेढ़ -दो दशक से यह विश्वविद्यालय भ्रष्टाचार का पर्याय बन गया है, जहाँ अब कोई काम बगैर रिश्वत दिये नहीं होता। भ्रष्टाचार की स्थिति यह है कि अब कोरी सिफारिश से कोई कार्य करना मुश्किल ही नहीं,असम्भव है। दूसरे शब्दों में कहें तो यहाँ बगैर जेब गर्म किये आम आदमी दूर तो दूर  विश्वविद्यालय का कोई भी पूर्व और वर्तमान कर्मचारी भी सहकर्मियों से अपने स्वजनों/परिचितों का सही कार्य भी नहीं करा सकता। लेकिन रिश्वत देकर यहाँ बड़े से बड़ा गलत काम बहुत आसानी से कराए जा सकते हैं। यहाँ अंक तालिका,उपाधि पत्र(डिग्री) समेत दूसरे प्रपत्रों का प्राप्त करने या उनमें में किसी तरह का सुधार कराने के लिए, अंक पत्र, उपाधि के सत्यापन, परीक्षा केन्द्र बनवाने या परीक्षा केन्द्र बदलवाने, पीएच.डी. करने या उसकी मौखिक परीक्षा के लिए रिश्वत देनी पड़ती है। इस विश्वविद्यालय में अधिकारियों और कर्मचारियों का अपने कार्यालय में अपने स्थान पर बैठे देखना ही मुश्किल है। अगर उन्होंने आप की समस्या सुनकर आवेदन पर हस्ताक्षर कर दिये,तो यह मान लेना आपकी भारी भूल होगी कि अब आप आपका कार्य हो ही जाएगा। इसे देखकर लगता है कि अधिकारी सिर्फ आपको गुमराह करने को बैठे हैं।

विश्वविद्यालय में व्याप्त  भ्रष्टाचार से हर कोई परिचित है। इसके खिलाफ छात्रों ने कई आन्दोलन, अनशन आदि किये हैं, पर भ्रष्टाचार पर लगाम नहीं लगी। आश्चर्य की बात यह है कि फिर भी विश्वविद्यालय की इस दुर्दशा से आगरा और अलीगढ़ मण्डल के सभी राजनीतिक दलों के सांसद और विधायकों ने भी कभी संसद या विधानसभा में उठाने की आवश्यकता अनुभव नहीं की। इन जनप्रतिनिधियांे में से सांसद/केन्द्रीय मंत्री, उच्च मंत्री/विधायक दूसरे विधायक हैं। इनकी बोलती क्यों बन्द रहती है, ये इतने संवेदनहीन क्यों हैं? यह शोध का विषय है।

प्रो.कुकला के दोनों निलम्बन काल के दौरान कार्यवाहक कुलपति बनाया गया। प्रो.कुकला के सेवानिवृत्त होने के बाद स्थायी कुलपति बने भ्रष्टाचार व वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों की जाँच चल रही है।डा अरविन्द दीक्षित- विजिलेन्स जाँच चल रही है। आरोप है कि उन्होंने दलाली/कमीशन के लिए विश्वविद्यालय के परिसरों में अनावश्यक निर्माण कार्य कराए थे। शिकायती पत्र में उनकी नियुक्ति के साथ ही संविदा नियुक्तियों पर भी सवाल उठाए गए हैं। आरोपितों में एक प्रोफेसर,पूर्व प्रोफेसर और एक अधिकारी शामिल हैं।प्रोफेसर डी.एन.जौहर प्रोफेसर डी.एन.जौहर और प्रोफेसर मोहम्मद मुजम्मिल- दोनों कुलपति अपने-अपने कार्यकाल में भ्रष्टाचार के आरोपों में फँसे। बाद में हरीपर्वत थाने में दोनों कुलपतियों के साथ ही 19अधिकारियों के खिलाफ वित्तीय अनियमितता का अभियोग दर्ज हुआ। आरोपितों मे वित्त अधिकारी राम पटेल सिंह, वित्त अधिकारी, अमरचन्द सिंह,कुल सचिव डी.के.पाण्डेय, निदेशक गृह विज्ञान संस्थान भारती सिंह, इतिहास विभाग  के ली प्रोफेसर मोहम्मद मुजम्मिल-डर अमित वर्मा, सहायक कुल सचिव परीक्षा अनिल कुमार शुक्ला, भौतिकी विभाग  के रीडर बीपी सिंह,उप कुल सचिव  परीक्ष प्रभात रंजन, डिप्टी रजिस्ट्रार  वित्त अधिकारी बालाजी यादव,  गृहविज्ञान प्रवक्ता डॉ.अनीता चोपड़ा, वित्त अधिकारी राम सागर पाण्डेय, निदेशक राघनारायण,माइण्ड लाजिस्टिक लिमिटेड बेंगलुरु के प्रोजेक्ट मैनेजर शैलेन्द्र टण्डन, मीनाक्षी मोहन और बालेश त्रिपाठी भी नामजद थे। प्रोफेसर विनय पाठक-विश्वविद्यालय में डिग्री व अंकतालिका का काम करने वाली एजेन्सी के संचालक ने लखनऊ मे अभियोग दर्ज कराया है। भ्रष्टाचार, वित्तीय अनियमिततओं  और रिश्वत माँगने का आरोप है। उनके खिलाफ हाल में लखनऊ में प्राथमिकी दर्ज हुई है।बीएचएमएस(बैचलर आफ होम्यापैथिक मेडिसिन एण्ड सर्जरी) का परिणाम पूर्व कार्यवाहक कुलपति के प्रोफेसर विय पाठक की मनमानी की भेंट चढ़ गया। उन्होंने नियम विरुद्ध पुनर्मूल्यांकन का परिणाम जारी कर दिया था। इसे गत 19 नवम्बर,2022 को परीक्षा समिति  की बैठक में निरस्त कर दिया। अब इस पर विश्वविद्यालय का ध्यान ही नहीं है।  19 नवम्बर, 2022 को परीक्षा समिति  की बैठक में डीन होम्योपैथी द्वारा प्रस्ताव रखा गया था कि बी.एच.एम.एस.(बैचलर आॅफ होम्यापैथिक मेडिसिन एण्ड सर्जरी) प्रथम, द्वितीय, तृतीय तथा चतुर्थ प्रोफेशनल सत्र की परीक्षा डिजिटल मूल्यांकन प्रत्याषा में कराया गया। इसलिए परीक्षा समिति के सामने अनुमोदनार्थ प्रस्तुत किया जाता है,इस पर सदस्यों ने आपत्ति जताई कि यह मामला एस.टी.एफ. की जाँच में शामिल है। पिछले दो सालों से केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरे अनिवार्य करने के बाद भी विश्वविद्यालय इस नियम को सख्ती से लागू नहीं करा पाया। प्रो. विनय पाठक पर भी परीक्षा केन्द्र निर्धारण में किये गए खेल के आरोप लगे हैं। उनके करीबियों ने काॅलेजों से खुलकर वसूली की है, जिसकी शिकायत एसटीएफ के पास पहँुच चुकी है।संस्कृति भवनतत्कालीन कुलपति डॉ. अरविन्द दीक्षित ने नियमों को दरकिनार कर बाग फरजाना क्षेत्र में इस संस्कृति भवन का निर्माण कराया था। सन् 2019में इसका निर्माण हो गया। जन निगम की निर्माण एण्ड डिजायन शाखा किये गए इस निर्माण पर 40करोड़ रुपए  व्यय हुए थे।  प्रो.पाठक ने इस वर्ष जनवरी में कार्यवाहक कुलपति का पदभार ग्रहण किया था। इस भवन का लोकापर्ण कराया गया। इस भवन का मालिकाना  हक विश्वविद्यालय के पास नहीं है। उद्घाटन के आठ माह बाद ही इस भवन में सीलन, पपड़ी के अलावा पार्किंग का फर्श भी टूट गया था। इस फर्श को ठीक कराया जा रहा है। सीमेण्ट की टाइल लगायी जा रही है। सीलन को दूर करने के लिए ट्रीटमेण्ट  कराया जा रहा है। विश्वविद्यालय के भवन के बाहर की तरफ आपात स्थिति के लिए लोहे की सीढ़ी का निर्माण भी कराया है। संस्कृति भवन में बने तरणताल में पानी भरने के तुरन्त टाइलें तैरने लगी। तरणताल को अब बन्द कर दिया गया। विश्वविद्यालय ने तरणताल में मरम्मत कार्य शुरू करा दिया है। टाइल लगायी चुकी हैं
डा.अरविन्द  दीक्षित ने सन् 2017में बाग फरजाना में ललिता कला संस्थान की भूमि पर संस्कृति भवन बनाने का विचार किया। इसके लिए जरूरी था कि विश्वविद्यालय का कोई विभाग प्रस्ताव दे। लेकिन गड़बड़ी देखकर कोई भी विभाग इस भवन के निर्माण को लेकर सहमत नहीं था। डा.दीक्षित ने 2019 में कागजों पर एक संस्थान/इण्टरनेशनल टूरिज्म एजूकेशनल इंस्टीट्यूट खड़ा कर दिया। प्रो.विनीता सिंह को निदेशक बनाया। जीवाजी विश्वविद्यालय,ग्वालियर के प्रो.रामअवतार शर्मा को सलाहकार न विषय विशेषक नियुक्त किया। इन्हीं माध्यम से संस्कृति भवन के निर्माण को फर्जी प्रस्ताव तैयार करा लिया और भवन तैयार हो गया। विश्वविद्यालय के पास संस्कृति भवन की भूमि का मालिकाना हक न होने पर एडीए ने नक्शा निरस्त कर दिया। इस बीच कुलपति डा.दीक्षित का कार्यकाल भी खत्म हो गया था। जब एस.टी.एफ. ने जाँच के लिए विश्वविद्यालय में परीक्षा सम्बन्धी कार्य देखने वाली कम्पनी डिजिटेक्स टेक्नालाजिज इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड के प्रबन्ध निदेशक डेविड मारियो डेनिस  ने पूछताछ के लिए बुलाया जा चुका है।उसने पुलिस के सामने विश्वविद्यालय में कमीशन के खेल का पर्दाफाश किया। अब देखना ये है कि विश्वविद्यालय नया रास्ता खोजेगा या पुरानी परिपाटी पर परीक्षा केन्द्र बनाएगा।

यह भी पढ़ें

Breaking News!!