image

एशिया में नाटो के विस्तार से बढ़ेगा संघर्ष, चीन ने दी चेतावनी

यूनाइटेड नेशंस में चीन के सीनियर राजनयिक झांग जुन ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर नाटो का विस्तार एशिया-प्रशांत क्षेत्र में किया गया तो क्षेत्र में उथल-पुथल मच जाएगा और संघर्ष का सामना करना पड़ेगा।

चीन के एक सीनियर राजनयिक ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर नाटो का विस्तार एशिया-प्रशांत क्षेत्र में किया गया तो क्षेत्र में उथल-पुथल मच जाएगा और संघर्ष का सामना करना पड़ेगा। यूनाइटेड नेशंस में चीनी राजदूत झांग जुन ने कहा है कि नाटो ने दुनिया के कई क्षेत्रों में दिक्कतें पैदा की है। नाटो को यूक्रेन में जारी युद्ध से सीखना चाहिए।

नाटो ने बोया है संघर्ष का बीज, बोला चीन

झांग ने कहा है कि शीत युद्ध के बाद नाटो के पूर्व की ओर विस्तार न सिर्फ यूरोप को सुरक्षित बनाने में नाकाम रहा है बल्कि संघर्ष का बीज भी बोया है। उन्होंने आगे कहा कि जिस तरह की उथल-पुथल और संघर्ष दुनिया के कुछ हिस्सों को प्रभावित कर रहे हैं, उन्हें एशिया-प्रशांत में नहीं होने देना चाहिए।

यूक्रेन युद्ध रोकने में मदद करे चीन, अमेरिका ने की अपील

अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने चीन पर निशाना साधते हुए कहा है कि हम चाहते हैं कि चीन यूक्रेन युद्ध को खत्म करने के लिए रूस पर दबाव डाले। हालंकि इस बात के बेहद कम सबूत हैं कि चीन रूस का सैन्य रूप से समर्थन कर रहा था लेकिन बीजिंग को युद्ध रोकने में मदद करनी थी। चीन अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकता है।

क्वाड और नाटो को लेकर चिंतित है चीन

बता दें कि चीन क्वाड ग्रुप को लेकर चिंतित है जिससे अमेरिका, जापान, भारत और ऑस्ट्रेलिया जुड़े हुए हैं। चीन ने कई मौके पर इस ग्रुप को नाटो का एशियाई मॉडल या दक्षिण एशियाई नाटो बताया है। हालांकि क्वाड ने लगातार कहा है कि यह ग्रुप सुरक्षा संबंधों को लेकर नहीं है। इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया, जापान, न्यूजीलैंड और साउथ कोरिया पहली बार नाटो बैठक में भाग लेंगे। इन्हीं कारणों से चीन नाटो को लेकर चिंतित है।

यह भी पढ़ें

Breaking News!!