image

द्रोपदी मुर्मू के समर्थन में उत्साह

डॉ दिलीप अग्निहोत्री 

लखनऊ में राष्ट्रपति चुनाव से सम्बन्धित दो दिलचस्प दृश्य दिखाई दिए. राजग उम्मीदवार द्रोपदी मुर्मू के समर्थन में भारी उत्साह था.विधानसभा उपचुनाव की सफ़लता और सौ दिन की उपलब्धियों का भी उत्साह इसमें परिलक्षित था. दूसरी तरफ विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा की लखनऊ यात्रा उदासी में बीत गई.विपक्षी खेमे में असफलता और गठबंधन में दरार के चलते निराशा है. यशवन्त सिन्हा को ममता बनर्जी की पहल से उम्मीदवार बनाया गया था. लेकिन उन्होंने अब हांथ खींच लिया है. हो सकता है कि विपक्षी मतदाता भी अंतरात्मा की आवाज पर द्रोपदी मुर्मू को वोट करें. 
राष्ट्रपति निर्वाचन मण्डल में सर्वाधिक वोट होने के कारण उत्तर प्रदेश का विशेष महत्त्व है. यह संयोग है कि करीब चौबीस घण्टे के अन्तराल में द्रोपदी मुर्मू और यशवन्त सिन्हा लखनऊ यात्रा प्रवास पर थे.वस्तुतः यहां से द्रोपदी मुर्मू की विजय का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है. विपक्ष ने नकारात्मक राजनीति अमल किया है. अन्यथा इस चुनाव की आवश्यकता ही नहीं थी. देश सर्वोच्च पद पर वनवासी समुदाय की सदस्य को देखना चाहता है. विपक्ष ने केवल निर्विरोध निर्वाचन की संभावना को समाप्त किया है.इससे विपक्ष की प्रतिष्ठा कम हुई है.  द्रौपदी मुर्मू दिन में करीब चार बजे चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट अमौसी पर पहुंचीं थी. एयरपोर्ट पर सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक उनकी अगवानी की शाम को करीब छह बजे द्रौपदी मुर्मू लोकभवन में भाजपा गठबंधन दलों के साथ बैठक में शामिल हुई. इसके बाद मुर्मु मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पर गई. जहां वह रात्रिभोज में सम्मलित हुईं.

यह भी पढ़ें

Breaking News!!