image

दिल्ली की श्री साहित्य सरगम एवं आगरा की आराधना संस्था ने किया रामलाल वृद्धाश्रम में अनूठा कवि सम्मेलन

धर्मेंद्र सिंह

दिल्ली की सुप्रसिद्ध संस्था श्री साहित्य सरगम और आगरा की नामचीन संस्था 'आराधना' द्वारा एक अनूठा कवि सम्मेलन निराश्रित वृद्धजनों के जीवन में उल्लास भरने के उद्देश्य से श्री रामलाल वृद्धाश्रम में किया गया। इसमें कभी बुजुर्ग अपने एकाकी जीवन को कवियों की रचनाओं में महसूस करते हुए भावुक हो जाते कभी हास्य रचनाओं पर ठहाके लगाते। सभी कुछ अद्भुत था और तालियों की गूंज में कवियों ने भी जमकर अपनी कविताओं का वाचन किया। इस कवि सम्मेलन का शुभारंभ जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव जज मुक्ता त्यागी ने किया।

आराधना के संस्थापक अध्यक्ष व्यंग्यकार पवन आगरी ने कार्यक्रम का बेहतरीन संचालन करते हुए अपनी हास्य कविताओं से जनसमूह को जमकर हंसाया वहीं श्री साहित्य सरगम के संस्थापक अध्यक्ष हास्य कवि अनिल अग्रवंशी ने हास्य का माहौल बनाकर अंत में एक मार्मिक कविता से माहौल को भावुक कर दिया कि - माता पिता को कष्ट पहुँचाओगे, तो याद करके बहुत पछताओगे, कीमत तभी पता चलती है जब वो चीज़ नहीं होती, काश मेरी माँ होती। देश की मशहूर कवयित्री ममता शर्मा, मीरा दीक्षित, डॉ नितिन मिश्र, शशांक प्रभाकर एवं सुनहरी लाल तुरंत ने अपनी रचनाओं से समां बांध दिया।

अतिथियों का स्वागत उपाध्यक्ष संजय बैजल, मधु गुप्ता, विनय शर्मा, नागेंद्र सेंगर, पंकज शर्मा, दीपिका दीक्षित, शबनम शर्मा और मीडिया प्रभारी धीरज चौधरी ने किया। धन्यवाद ज्ञापन रामलाल वृद्धाश्रम के संस्थापक अध्यक्ष शिव प्रसाद शर्मा ने किया।

Post Views : 408

यह भी पढ़ें

Breaking News!!