image

कुदरत के नज़ारे  (बाल कविता) 

.

देखो लगते बड़े निराले,
बादल छाये काले-काले।

बादल घिरे, अँधेरी छाई,
चारों ओर रात घिर आई। 

निकले नील गगन के घर से, 
टप-टप करके बादल बरसे। 

रिमझिम-रिमझिम बरखा लाये,
गर्मी सारी दूर भगाये। 

हर्षित देखा जब नील गगन, 
बच्चे सारे तब हुए मगन। 

छू मंतर हुई गरमी सारी,  
मारें सब मिलकर किलकारी।

बनी सब गलियां ताल-तलैया, 
नाचे मिलकर ता-ता-थैया।

पानी बरसा इतना खासा, 
लगता जैसे हो चौमासा।

देखा तब अजीब तमाशा,
इंद्र धनुष ने रूप तराशा।

कुदरत के ये अजब नजारे,
लगते सबको प्यारे- प्यारे।

-डॉ. सत्यवान सौरभ
(नव प्रकाशित बाल काव्य संग्रह 'प्रज्ञान' से साभार।)

Post Views : 301

यह भी पढ़ें

Breaking News!!