image

खंदौली में छात्रा को बंधक बनाकर दुराचार का प्रयास, आरोपी दूसरे समुदाय का होने के चलते इलाके में तनाव

धर्मेंद्र सिंह

आगरा थाना खंदौली क्षेत्र के एक गांव में शनिवार को सहेली से किताब लेकर घर लौट रही कक्षा नौ की छात्रा को दो युवकों ने अगवा कर भैंसों के तबेले में बंधक बना लिया। वहां उससे दुराचार का प्रयास किया। छात्रा की चीखें सुनकर वहां पहुंचे ग्रामीणों ने उसको मुक्त कराया। मुख्य आरोपी फरार हो गया। आरोपी युवक दूसरे समुदाय के होने से गांव मे तनाव है। पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है। पीड़िता के परिजनों ने थाना खंदौली में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया है। मामला थाना क्षेत्र के एक गांव का है। पीड़िता के चाचा ने पुलिस को बताया कि उसकी 14 वर्षीय भतीजी कक्षा नौ की छात्रा है। शनिवार दोपहर वह अपनी सहेली के घर से किताब लेकर लौट रही थी। मोहल्ले में दूसरे समुदाय का युवक जावेद रास्ते में खड़ा था। वह छात्रा को उठाकर भैंसों के तबेले में ले गया। जावेद के तबेले में अंदर जाते ही बाहर बैठे चचेरे भाई आजाद ने मेन गेट को बंद कर दिया। आरोप है कि तबेले में जावेद ने छात्रा से दुष्कर्म का प्रयास किया। विरोध करने पर छात्रा के परिवार को जान से मारने की धमकी दी। तबेले के भीतर से चीख सुन वहां से गुजर रहे पीड़िता के मौसा ने शोर मचाकर ग्रामीणो को इकह्वा कर लिया। ग्रामीणों ने किसी तरह तबेले का गेट खुलवाया। छात्रा को मुक्त कराया। इस बीच जावेद मौके से फरार हो गया। मामला दूसरे समुदाय से जुड़ा होने की वजह से गांव में तनाव फैल गया। थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने आरोपी आजाद सहित कई को हिरासत में लिया है। थाना अध्यक्ष खंदौली राजीव कुमार ने बताया कि एक आरोपी आज़ाद को गिरफ्तार कर लिया गया है। पीडित छात्रा को मेडिकल के लिए भेज दिया है। पुलिस ने जावेद और आजाद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

पहले भी हो चुका है बवालः
थाना क्षेत्र के इसी गांव में 17 सितम्बर 2019 में एक समुदाय विशेष के युवकों द्वारा किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म किया गया था। इस मामले में आगजनी के बाद बवाल हो गया था।

पीड़ित परिवार पर समझौते का दबाव
छात्रा के साथ दुष्कर्म के प्रयास से पूरे गांव में तनाव है। आरोपी पक्ष के लोग दूसरे समुदाय के है। शाम तक दूसरे समुदाय के लोग पंचायत का सहारा लेकर पीड़ित परिवार पर समझौते के लिए दबाव बनाने का प्रयास करते रहे।

पुलिस ने रात को ही गांव में डाला डेरा
एसीपी एत्मादपुर सुकन्या शर्मा ने घटना के बाद गांव में पहुंच मोर्चा संभाल लिया। पीड़िता के परिवार को न्याय का भरोसा दिलाया। उन्होंने पूर्व में हुई घटना की भी जानकारी जुटाई। देर रात्रि तक गांव में ही डेरा डाल लिया।

Post Views : 169

यह भी पढ़ें

Breaking News!!