image

नूंह हिंसा : महिला जज की गाड़ी पर हमला, बेटी के साथ ऐसे बचाई अपनी जान

हरियाणा

हरियाणा के नूंह में सोमवार को हुई हिंसा के बाद अब कुछ हद तक चीज़ें पटरी पर लौट रही हैं. पुलिस अभी भी कड़ी नज़र बनाए हुए है, इंटरनेट बंद है और पाबंदियां रखी जा रही हैं. इस बीच 31 जुलाई यानी हिंसा वाले दिन की अलग-अलग कहानियां सामने आ रही हैं. इस मामले में 41 एफआईआर दर्ज की गई हैं, जो हिंसा के उस दौर के बारे में बता रही हैं. इसी दौरान एक महिला सिविल जज जो अपने घर लौट रही थीं, तब उनकी गाड़ी पर भी हमला किया गया था. अपनी बेटी के साथ सफर कर रही महिला जज ने किस तरह अपनी जान बचाई, इसकी पूरी कहानी सामने आई है.

1 अगस्त को नूंह में इस घटना को लेकर एफआईआर दर्ज की गई है, इसमें बताया गया है कि एडिशनल चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट अंजलि जैन उस दिन अपनी 3 साल की बेटी और गनमैन साथ मेडिकल कॉलेज से वापस लौट रही थीं. इसी दौरान उनकी गाड़ी पर 100-150 लोगों की भीड़ ने हमला किया और पत्थरबाजी शुरू कर दी.

एफआईआर में बताया गया है, ‘हम वॉक्सवैगन पोलो गाड़ी में थे, जज अंजलि जैन नलहर में दोपहर 2 बजे के करीब दवाई लेने के लिए अस्पताल पहुंची थीं. जब दिल्ली-अलवर रोड पर हम बंधन बैंक के पास पहुंचे, तब भीड़ ने पत्थर फेंकने शुरू कर दिए और हथियार लहराए. तभी गाड़ी पर पीछे से एक पत्थर आया, इतनी ही देर में फायरिंग शुरू हो गई. हमें उस वक्त कुछ वकीलों ने बचा लिया और हम पास में मौजूद बस स्टैंड की वर्क शॉप में छिप गए.’

Post Views : 322

यह भी पढ़ें

Breaking News!!