image

ग्लोबल ताज इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल समिति मे किया पुरस्कार वितरण कार्यक्रम।

फिल्म मेकर, साहित्यकार, एवं लेखकों का फिल्म फेस्टिवल समिति ने किया सम्मान

आज ग्लैमर लाइव के बैनर तले हुए सम्मान समारोह मे फिल्म मेकर, साहित्यकार, एवं लेखकों व सहयोगियों का ग्लोबल ताज इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल के आयोजकों द्वारा सम्मानित किया गया।
होटल भावना क्लार्क इन में हुए सम्मान समारोह का सुभारंभ सरस्वती की चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया। 
स्वागत उद्बोधन में फेस्टिवल के निदेशक सूरज तिवारी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए तीन दिवसीय सफल आयोजन के लिए सभी सहयोगियों का धन्यवाद् किया। और कहा कि शहर में रोजगार को बढ़ाने हेतु शहर के लोग इसी प्रकार अपना सहयोग देंगे तो इस तरह के आयोजन जिसमे देश विदेश के अनेकों कलाकार निर्देशक व फिल्म निर्माता की उपस्थिति रही, शहर के कलाकारों को अधिक रोजगार उपलब्ध कराएगा ।
फेस्टिवल के पेट्रोन रंगीत सांभा ने कहा कि आगरा व उत्तर प्रदेश के लिए फिल्मों से बढ़ा कोई रोजगार नही हो सकता है।
सरकार को इस दिशा में ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है। जिससे आने वाले युवा फिल्म मेकर्स को एक सही प्लेटफार्म मिल सके।
होटल भावना क्लार्क इन के जनरल मैनेजर श्री गजेन्द्र सिंह ने कहा कि इस तरह के आयोजन शहर के होटल टूरिज्म को बढ़ावा देंगे। 
आयोजित कार्यक्रम में मुख्य रूप से डॉo पवन पारीक, श्री नारायण दास जी, डॉo विनोद यादव, श्री हरिश सक्सेना चिमटी, हास्य कवि पवन आगरी,  श्री संजय दुबे, एड0 सरोज यादव, डॉo भानु प्रताप सिंह, एड0 मेघ सिंह, श्री विनीत बवानिया आईoआईo एफo टीo, डॉo महेश धाकड़ श्री जेo डीo शर्मा, युवा कवि ईशान देव, श्री आशीष त्रिपाठी, श्री दीपक जैन म्यूजिक ध्वनि, गायक श्री चंचल उपाध्याय, श्री राकेश चतुर्वेदी, श्री सोमनाथ यादव विशेष रूप से उपस्थित रहे....

ताजनगरी में शुक्रवार को ग्लोबल ताज इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का शुभारंभ हुआ। फेस्टिवल का उद्घाटन फिल्म अभिनेता रजा मुराद, फ्रांस की प्रोड्यूसर मेरिन बोरगे, दादा साहब फाल्के की नातिन मृदुला, दिलीप दल्वी, अभिनेता उमेश वाजपेयी ने किया। फेस्टिवल में भारत के अलावा 15 देशों की फिल्में भागीदारी कर रही हैं।

ग्लोबल ताज इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे बॉलीवुड के प्रख्यात कलाकार रजा मुराद ने कहा कि फेस्टिवल हर कलाकार को कुछ नया सिखाकर जाता है। इसलिए इस तरह के फिल्म फेस्टिवल बड़े शहरों के साथ छोटे शहरों में भी होते रहने चाहिए। 

उन्होंने कहा कि यह काफी उम्दा कोशिश है कि आगरा में इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल हो रहा है। इस फेस्टिवल के माध्यम से कलाकारों, लेखकों, निर्देशकों सहित फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को काफी फायदा मिलेगा। उन्हें काफी कुछ नया सीखने को भी मिलेगा। 

दुनिया में धूम मचा रहीं छोटे शहरों की फिल्में

इंडियन बॉय नेचर में शामिल फेस्टिवल के संरक्षक रंजीत सामा ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल कुछ ही सालों में आगरा से बाहर पहुंचेगा। फेस्टिवल के निदेशक सूरज तिवारी ने कहा कि आज हमारे छोटे शहरों की फिल्में देश-विदेश में धूम मचा रही हैं। यह इंडस्ट्री के लिए काफी अच्छे संकेत हैं। 

दादा साहब फाल्के की नातिन मृदुला ने कहा कि इंडियन सिनेमा के पायनियर को भारत रत्न दिलाने के लिए प्रयासरत हैं। उन्हें यह सम्मान जरूर मिलना चाहिए। इसके लिए आगरा का यह इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल हमारी बात को आगे बढ़ा रहा है। 

वेस्टर्न इंडिया प्रोड्यूसर एसोसिएशन, मुंबई के महासचिव दिलीप दल्वी ने कहा कि इस तरह के महोत्सव अलग और विशेष तरह की कहानी कहने वाली फिल्मों को लाते हैं। फ्रांस की प्रोड्यूसर मरीन वर्गो ने कहा कि कभी-कभी इस तरह के फेस्टिवल में आकर एक नई कहानी मिल जाती है। 

Post Views : 252

यह भी पढ़ें

Breaking News!!