image

राष्ट्र जागरण की यात्रा में समाज का योगदान महत्वपूर्ण

मनोज

लखनऊ। गोमती नगर के पंचवटी पार्क में राष्ट्रीय स्वयसेवक संघ द्वारा नव वर्ष उत्सव का अयोजन किया गया। इसमें  क्षेत्र सह संपर्क प्रमुख
मनोज जी का बौद्धिक हुआ। उन्होंने कहा कि भारत की कालगणना पूरी तरह विज्ञान पर आधारित है। इसमें एक अरब से अधिक समय बीतने के बाद एक पल का भी अंतर नही हुआ है। इतना ही नहीं प्रलय के बाद भी  इसकी प्रासंगिता यथावत रहेगी। इस नव वर्ष भी पर प्रकृति भी नव रूप धारण करती है। यह आध्यात्मिक ऊर्जा के जागरण का भी अवसर होता है। नवरात्र का शुभारंभ होता है। आतंक अन्याय पर न्याय की विजय का सन्देश मिलता है।
उन्होंने कहा कि भारतीय जनमानस ने अपने को कभी गुलाम नही माना। यही कारण है कि हमारे तीर्थ स्थलों के विध्वंस के बाद एक दिन भी सनातन उपासना रुकी नहीं।
आज भारत राष्ट्रीय पुनर्जागरण की दिशा में आगे बढ़ रहा है। भव्य श्री राम मंदिर, श्री काशी विश्वनाथ धाम, उज्जैन महाकाल की भव्यता इसके प्रमाण है। भारत स्वावलंबी आत्मनिर्भर और शक्तिशाली बन रहा है। नव संवत्सर पर डॉ हेडगेवार का जन्म हुआ था।परम वैभवशाली भारत कि प्रतिष्ठा का स्वप्न डॉ हेडगेवार ने देखा था।इसको साकार करने के लिए ही उन्होंने  संघ की स्थापना की थी। आज सपना साकार हो रहा है।
लेकिन आज भी सनातन विरोधी तत्व हैं। इनसे सावधान रहने की आवश्यकता है। मनोज जी ने कहा कि इसके दृष्टिगत समाज को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। राष्ट्र जागरण की इस यात्रा को आगे बढ़ाने में अपना पूरा सहयोग देना होगी। समाज की एकता से ही सनातन विरोधियों के मंसूबों को निष्प्रभावी किया जा सकता है।

Post Views : 115

यह भी पढ़ें

Breaking News!!