image

भारत को लगातार हथियार सप्लाई से डरा पाकिस्तान, दुनिया से लगाने लगा गुहार

भारत अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए रूस, फ्रांस और अमेरिका जैसे देशों से उन्नत हथियार और तकनीक आयात करता है जिसे देख पाकिस्तान जल भुन गया है. चिंतित पाकिस्तान ने इस बात को संयुक्त राष्ट्र में उठाया है और भारत को गीदड़भभकी दी है.

भारत की हथियारों की बढ़ती ताकत देख पाकिस्तान परेशान हो उठा है. भारत रूस, फ्रांस और अमेरिका जैसे अपने रणनीतिक साझेदारों से उन्नत तकनीक और हथियार आयात करता है जिस पर पाकिस्तान ने अपना डर जाहिर किया है. पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में चिंता जताते हुए कहा है कि भारत को हथियारों की 'लगातार सप्लाई की जा रही है. पाकिस्तान ने कहा है कि इससे क्षेत्र की अस्थिरता बढ़ रही है और 'तनावग्रस्त क्षेत्र में रणनीतिक संतुलन खतरे' में पड़ गया है. 

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के उप स्थायी प्रतिनिधि राजदूत मुहम्मद उस्मान इकबाल जादून ने शुक्रवार देर रात यह बातें कही. हालांकि, पाकिस्तानी दूत ने भारत के खिलाफ यह बातें बिना भारत का नाम लिए कही. उन्होंने भारत के खिलाफ जहर उगलते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को संकीर्ण रणनीतिक और वाणिज्यिक विचारों के आधार पर दक्षिण एशिया के प्रति दोहरे मानकों की नीति को त्याग देना चाहिए.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में शुक्रवार को 'शांति और सुरक्षा के लिए छोटे हथियारों, हल्के हथियारों और गोला-बारूद के दुरुपयोग, अवैध तस्करी और दुरुपयोग से उत्पन्न खतरे का समाधान' विषय पर आयोजित एक बहस में 60 से अधिक देशों ने भाग लिया जिसमें पाकिस्तानी दूत ने यह टिप्पणी की.

इस दौरान पाकिस्तानी राजदूत जादून ने कहा कि पारंपरित हथियारों को सीमित करने और धीरे-धीरे उनका इस्तेमाल कम करने का लक्ष्य साकार नहीं हुआ है बल्कि देश अपने सैन्य खर्च में लगातार बढ़ोतरी करते जा रहे हैं.

भारत के रक्षा बजट पर खीझ गया पाकिस्तान

पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति पिछले कुछ सालों में बद से बदतर होती गई है. वो अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से मिले कर्ज और सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और चीन जैसे देशों से मिले कर्ज की बदौलत खुद को दिवालिया होने से बचा रहा है. पाकिस्तान में महंगाई से परेशान आम लोग दो वक्त की रोटी भी मुश्किल से जुटा रहे हैं. बदहाल पाकिस्तान का रक्षा बजट हालांकि, हमेशा ही ज्यादा रहा है. पाकिस्तान 2023-24 में अपने रक्षा पर 6,27 अरब डॉलर खर्च करता है. वहीं, भारत का रक्षा बजट 72.2 अरब डॉलर है. भारत के विशाल रक्षा बजट पर भी पाकिस्तानी राजदूत अपनी खीझ निकालने से बाज नहीं आए.

उन्होंने बिना भारत का नाम लिए कहा, 'दक्षिण एशिया में कई अस्थिर करने वाले घटनाएं हो रही हैं. यहां एक देश का सैन्य खर्च बाकी सभी देशों की तुलना में काफी अधिक है. इस देश को पारंपरिक हथियारों की बेरोक-टोक आपूर्ति की जा रही है. इसकी रणनीतिक क्षमताएं बढ़ रही हैं जो अस्थिरता को बढ़ावा दे रही है, नाजुक क्षेत्रीय संतुलन को खतरे में डाल रही है और लंबे समय से चले आ रहे विवादों के समाधान में मुश्किलें पैदा कर रही है. इससे क्षेत्र में स्थायी शांति स्थापित नहीं हो पा रही है.'

पाकिस्तानी दूत ने आगे अपनी गीदड़भभकी में कहा, 'यह असंतुलन हमेशा से चला आ रहा है जिससे तनाव भी रहा है. इससे परमाणु सशस्त्र देशों के बीच लड़ाई भी शुरू हो सकती है.'

पाकिस्तानी राजदूत ने आगे कहा कि पाकिस्तान न तो इस क्षेत्र में हथियारों की होड़ चाहता है और न ही इसमें शामिल है.

 

Post Views : 98

यह भी पढ़ें

Breaking News!!