image

कमांडो बनने के लिए बिहार पुलिस सिपाहियों को लगानी होगी 2.4 किमी की दौड़, जानें फिजिकल टेस्ट के नियम

Bihar Police Bharti : बिहार पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) का हिस्सा बनने के लिए सिपाहियों को शारीरिक दमखम दिखाना होगा। पुलिस की बेसिक ट्रेनिंग पूरी कर चुके और 28 साल से कम उम्र के सिपाही एसटीएफ

Bihar Police Bharti : बिहार पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) का हिस्सा बनने के लिए सिपाहियों को शारीरिक दमखम दिखाना होगा। पुलिस की बेसिक ट्रेनिंग पूरी कर चुके और 28 साल से कम उम्र के सिपाही एसटीएफ की शारीरिक परीक्षा ( bihar police stf Commando physical exam  ) पास करेंगे तभी उन्हें कमांडो का तमगा मिलेगा। एसटीएफ में आने के इच्छुक जवानों के लिए 1 अगस्त को यह परीक्षा पटना में आयोजित होगी। एसटीएफ में कमांडो बनने के लिए जो पैमाना तय है उसके मुताबिक सिपाहियों को 2.4 किलोमीटर की दौड़ अधिकतम 12 मिनटों में पूरी करनी होगी। इसके अलावा 100 मीटर की दौड़ भी होगी। इस दौड़ को 14 सेकेंड के भीतर पूरा करना है। 

दौड़ के अलावा कम से कम 30 और अधिकतम 40 तक सीट-अप लगातार लगाना होगा। इसी तरह लगातार 20 और अधिकतम 30 पुश-अप भी लगाना है। शारीरिक परीक्षा के दौरान चीन-अप भी लगाना है। कम से कम 5 और अधिकतम 11 चीन-अप लगाने के बाद ही वे एसटीएफ में चयन के लिए खरा उतरेंगे।

आठ सौ और सौ मीटर की दौड़ लगानी होती है। आठ सौ मीटर की दौड़ 2 मिनट 40 सेकेंड और सौ मीटर की दौड़ 14 सेकेंड में पूरी करनी होती है। बात सिर्फ दौड़ से नहीं बनेगी। जवानों को 30 सीट-अप और इतने ही पुश-अप लगाने पड़ते हैं। इसके अलावा 10 चीन अप भी एकबार में करना होता है। एसटीएफ की शारीरिक दक्षता जांच परीक्षा में शामिल होनेवाले सिपाहियों को कुछ जरूरी कागजात भी लाने होंगे। जैसे-परिचय पत्र, चिकित्सकीय फिटनेस का प्रमाण पत्र, आदेश पत्र और स्वयं घोषणा का पत्र लेकर आएंगे।

28 वर्ष से ज्यादा की उम्रसीमा नहीं
ऐसा नहीं है कि एसटीएफ में शामिल होने के लिए किसी भी आयु वर्ग के सिपाहियों को मौका दिया जाता है। इसके लिए अधिकत उम्र सीमा 28 वर्ष निर्धारित है।

- एसटीएफ में आने के इच्छुक जवानों को कड़ी शारीरिक परीक्षा से गुजरना होगा
- 2.4 किलोमीटर व 100 मीटर दौड़ के साथ पुश-अप व चीन-अप भी लगाना होगा
- शारीरिक परीक्षा में खरा उतरने पर ही होगा स्पेशल टास्क फोर्स में चयन

मूल वेतन का 40 प्रतिशत है भत्ता
एसटीएफ में जवानों को भारी-भरकम भत्ता दिया जाता है। यह, उनकी बेसिक वेतन का 40 प्रतिशत होता है। चयन के बाद जवानों को नए सिरे से ट्रेनिंग दी जाती है। यह ट्रेनिंग दो महीने की होती है। इसके बाद इन्हें एसटीएफ में कमांडो की जगह मिल जाएगी। बाद में विशेष ट्रेनिंग के लिए ग्रेहाउंड या अन्य जगहों पर भेजा जाता है।

यह भी पढ़ें

Breaking News!!