image

यूक्रेन से जंग के बीच ब्रिटेन के इस फैसले से भड़का रूस

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने इसकी पुष्टि की है कि ब्रिटेन यूक्रेन का समर्थन करने के लिए चैलेंजर 2 टैंक भेजा. अब इस पर रूसी दूतावास का भी बयान आया है. जिसमें दूतावास ने कहा है कि यूक्रेन को ब्रिटेन द्वारा टैंक देने से सिर्फ संघर्ष बढ़ेगा.

रूस और यूक्रेन के बीच करीब 11 महीने से युद्ध जारी है. दोनों देशों के बीच छिड़ी इस जंग में हजारों लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं यूक्रेन कई इलाके तबाह होने से लाखों लोग बेघर हो चुके हैं. इस बीच ब्रिटेन ने यूक्रेन को टैंक भेजने का फैसला किया है. मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने इसकी पुष्टि की है कि ब्रिटेन यूक्रेन का समर्थन करने के लिए चैलेंजर 2 टैंक भेजा. अब इस पर रूसी दूतावास का भी बयान आया है.

   

'यूक्रेन रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल की योजना बना रहा'

बता दें कि इससे पहले दूतावास ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए यूक्रेन पर रूस के खिलाफ रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल करने की योजना बनाने का आरोप लगाया था. दूतावास ने शुक्रवार (स्थानीय समय) पर ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया. जिसमें दावा किया गया कि युद्ध बढ़ने पर यूक्रेन रूसी सैनिकों के खिलाफ रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल करने की योजना बना रहा है. 

रूस ने बदला सेना का कमांडर

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने हाल ही में रूसी सेना का नया टॉप कमांडर नियुक्त किया है. पुतिन ने वालेरी गेरासिमोव को यूक्रेन युद्ध का जिम्मा सौंपा है. वर्तमान में वालेरी गेरासिमोव रूसी आर्म्ड फोर्स में जनरल स्टाफ के प्रमुख पद पर तैनात हैं. अब वालेरी गेरासिमोव यूक्रेन में रूसी सेना के विशेष सैन्य अभियान के प्रमुख होंगे. वहीं कमांडर सर्गेई सुरोविकिन को प्रमुख पद से हटाते हुए वालेरी गेरासिमो का डिप्टी बनाया गया है. रूस के रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को यह घोषणा की है. रूसी रक्षा मंत्रालय की ओर से कहा गया कि वालेरी गेरासिमोव को 'जॉइंट ग्रुपिंग ऑफ ट्रूप्स' का कमांडर नियुक्त किया गया है. वहीं रूसी सेना के यूक्रेन में मौजूदा कमांडर सर्गेई सुरोविकिन को वालेरी गेरासिमोव का डिप्टी नियुक्त किया गया है.

दरअसल, रूसी दूतावास ने कहा है कि यूक्रेन को ब्रिटिश टैंक भेजे जाने से संघर्ष तेज ही होगा. अपनी ट्विटर हैंडल पर ब्रिटेन स्थित रूसी दूतावास ने कहा कि 14 जनवरी को प्रधानमंत्री ऋषि सुनक और यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लादिमीर ज़ेलेंस्की के बीच फोन पर हुई बातचीत के बाद ब्रिटेन सरकार ने अपनी प्रेस-विज्ञप्ति में यूक्रेन को चैलेंजर 2 टैंक प्रदान करने की अपनी योजना की सैद्धांतिक रूप से पुष्टि की. 

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन कीव को सशस्त्र करने और संघर्ष को बढ़ाने के मामले में शीर्ष नाटो सदस्य राज्य के रूप में अपनी स्थिति की पुष्टि करने का इरादा रखता है. युद्ध में टैंकों को भेजना दुश्मनी खत्म करने से बहुत दूर है. ये केवल युद्ध को बढ़ाने का काम करेगा.

Post Views : 380

यह भी पढ़ें

Breaking News!!