उत्तर प्रदेश उन्नाव

निगरानी समितियों को अधिक सक्रिय करने के दिये निर्देश

उन्नाव जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार की अध्यक्षता में स्थानीय विकास भवन सभागार में कोविड-19 के दृष्टिगत प्रवासी श्रमिको/व्यक्तियोें के गैर प्रान्त से आने वाले लोगों को अस्थायी आश्रय स्थल, कोरंटाइन तथा होम कोरंटाइन किये जाने के सम्बन्ध में निगरानी समिति के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। जिलाधिकारी ने बैठक में उपस्थित समस्त खण्ड विकास अधिकारी तथा अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत को कोविड-19 के तहत नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बनायी गई निगरानी समिति के प्रभारी नामित किये जाने के उपरान्त इनके द्वारा नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र में बनायी गई निगरानी समिति को अब तक किये गये कार्यों की समीक्षा की। जिलाधिकारी ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिये कि 01 मई 2020 को जारी शासना देश के तहत अप्रवासी श्रमिको को नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र मे बनायी गई निगरानी समिति को दिये गये निर्देशो के तहत एक घण्टा समय देना अनिवार्य है। ग्रामीण निगरानी समिति एवं मोहल्ला निगरानी समिति का गठन निर्धारित प्रारूप के आधार पर कराया जाये। ग्रामीण क्षेत्र में प्रधान तथा शहरी क्षेत्र में सभासद के माध्यम से संचालित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि अप्रवासी जो ट्रेन/बस के माध्यम से अपने गृह जनपद आ रहें है उनकी सूची जिला प्रशासन तैयार करा रहा है। जब कि ग्रमीण/शहरी क्षेत्रों में पैदल चल कर प्रवासी अपने घर चोरी छिपे पहुॅच रहें है। ऐसी निगरानी समितियों को कडे निर्देश दिये गये है कि उनकी सूचना तत्काल क्षेत्रीय कन्ट्रोल रूम में देकर उन्हे क्वॅारंटिन कराये। कोई भी प्रवासी श्रमिक अपने घर में बगैर सूचना के रहते पाया जाता है तो सम्बन्धित परिवार के विरूद्ध एफ0आई0आर दर्ज करायी जायेगी।
जिलाधिकारी ने ग्रामीण निगरानी समिति एवं मोहल्ला निगरानी समिति के दायित्वों के बारे में बताया कि क्वाॅरटाईन किया गया परिवार को अनिवार्यरूप से मास्क, गमझा, दुपट्टा, मुह एवं नाक को ढकेगे तथा हाथोें को साबुन व पानी से धोने की आदत को बढावा देगंे। निगरानी समिति के द्वारा इस कार्य हेतु लगभग एक घंटे की अवधि निश्चित की जायेगी। परिवार के सदस्यों को निगरानी समिति के सदस्यों का दूरभाष उपलब्ध कराया जायेगा। जिलाधिकारी ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिये कि जनपद में प्रवासी कामगारांे के लौटने पर प्रत्येक प्रवासी की स्क्रीनिग के साथ-साथ पता एवं मोबाइल नम्बर सहित लाइन लिस्टिंग तैयार किया जाये। आश्रय स्थल पर प्रभारी इन व्यक्तियों के नाम शासना देश के अनुसार रजिस्टर में अंकित करेगें। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी निगरानी समिति की बैठक अभी तक नही की है वे कल तक अवश्य करे लें ताकि निगरानी समिति के पदाधिकारियों को कतव्र्य बोध हो सके। जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन अवधि में रहते है उनके घर के सामने फ्लैक्स फलायर लगाया जाये।
जिलाधिकारी ने जनपद में 15 हजार प्रवासियों को ठहरने हेतु शेल्टर होम की व्यवस्था समस्त खण्ड विकास अधिकारी तथा अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत को समय से तैयार रखने के निर्देश दिये। उन्होंने ब्लाॅक एवं नगर पंचायत वार तैयार किये गये शेल्टर होम की जानकारी ली। कुछ स्थानों पर अपेक्षा के अनुरूप शेल्टर होम न तैयार होने पर उप जिलाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रो में व्यवस्था दुरूस्त रखने के निर्देश दिये। उन्होंने सम्बन्धित क्षेत्र के उपजिला अधिकारियों, क्षेत्राधिकारियों, खण्ड विकास अधिकारियों आदि को निर्देश दिये कि जो प्रवासी पैदल चलकर आ रहें है उनकी सूचना सम्बन्धित कन्ट्रोरूम प्रभारी श्री राजेन्द्र प्रसाद यादव जिला पंचायत राज अधिकारी को नोडल अधिकारी के कन्ट्रोल रूम नम्बर 0515-2820446 पर सूचित करें। जिलाधिकारी ने बताया कि कण्ट्रोल रूम में प्रातः 06 बजे से अपरान्ह 02 बजे तक सहायक नोडल अधिकारी के रूप में श्री अनिल कुमार, प्रशासनिक अधिकारी, कार्यालय जिला विकास अधिकारी उन्नाव मो0न0 9450772456, 7652046030, 8176842006, अपरान्ह 02 बजे से रात्रि 10 बजेे तक सहायक नोडल अधिकारी के रूप में श्री अतुल कुमार अवस्थी, सहायक विकास अधिकारी(पंचायत), कार्यालय जिला पंचायत राज अधिकारी उन्नाव मो0न0 7355577679, 9919321121, रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक सहायक नोडल अधिकारी के रूप में श्री अशोक कुमार यादव, ए0डी0सी0ओ0, कार्यालय सहायक आयुक्त एवं सहायक निबन्धक सहकारिता उन्नाव मो0न0 7985007803 को भी सूचित कर सकते है।
जिलाधिकारी ने बताया कि शेल्टर होम प्रभारियों को निर्देश दिये कि क्वारटिन प्रवासियों को घर भेेजने से पूर्व खाद्यान किट अवश्य दी जाये। निगरानी समिति को पूरी तरह से एक्टिव रखा जाये। कन्ट्रोल रूम में बैठे कर्मचारियों को पूरी जानकारी होनी चाहिये। पैदल आने वाले प्रवासियों को रूकवाने की व्यवस्था सम्बन्धित क्षेत्र के अधिकारी करेगें। कोई व्यक्ति पैदल न चलते पाया जाये।
बैठक के दौरान पुुलिस अधीक्षक श्री विक्रान्त वीर ने उपस्थित क्षेत्राधिकारी पुलिस को निर्देश दिये कि कोरोना मानीटर की तरह पुलिस अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में बाहर से आये हुये प्रवासी श्रमिकों की ग्राम वार सूची बना ले। ताकि भविष्य में कही से गडबडी न हो सके, ग्राम स्तर पर सुरक्षा समिति सक्रिय रखी जाये। सभी पुलिस कर्मी मास्क, दस्ताना आदि लगाकर ड्यूटी करेगें।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 राजेश कुमार प्रजापति, अपर जिला अधिकारी श्री राकेश सिंह, समस्त उप जिलाधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी, अधिशाषी अधिकारी नगर पंचायत सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी/कर्मचारी आदि उपस्थित थें।

Live TV

GMaxMart.com

Our Visitor

1252564
Hits Today : 4796