आगरा उत्तर प्रदेश कार्यक्रम शिक्षा

डीईआई के तीन दिवसीय नाट्य महोत्सव में अंतिम दिन हुआ पांच नाटकों का प्रभावी मंचन, उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले नाट्य कलाकारों को किया गया सम्मानित

आगरा। दयालबाग एजुकेशनल इंस्टीट्यूट के तत्वाधान में बुधवार से आयोजित हुुए तीन दिवसीय वार्षिक नाट्य महोत्सव के अंंतिम दिन शुक्रवार को इंस्टीट्यूट के दीक्षांत सभागार में कुल पांच नाटकों का मंचन किया गया, इनमें हिंंदी भाषा के तीन और अंग्रेजी व संस्कृत भाषाओं के एक-एक नाटक शामिल थे।
निर्णायक मंडल द्वारा महाविद्यालय स्तर पर हिंदी नाटक नट सम्राट को और विद्यालय स्तर पर ध्रुवस्वामिनी को सर्वश्रेष्ठ नाटक के पुरस्कार दिए गए। वहीं अंग्रेज़ी नाट्य प्रस्तुति में द इल्यूमिनेटेड नाइट और द टेल ऑफ थ्री ब्रदर्स को पुरस्कृत किया गया। वहीं संस्कृत नाटकों में अभिज्ञान शाकुंतलम चरन्वै मधु विंशति को अलग अलग श्रेणी में पुरस्कार दिए गए।
डीईआई के अंग्रेजी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर जेके वर्मा ने संबोधन में कहा कि कुछ समय पूर्व टर्निंग द टाइड कंप्टीशन में डीईआई ने पांच पुरस्कार हासिल किए। ये संस्थान के अनुशासन, परिश्रम और समर्पण भाव का ही परिणाम है। वर्तमान नाट्य महोत्सव में प्रदर्शित नाट्य प्रस्तुतियां में कलाकारों की मेहनत झलकती है। रंगकर्मी यश उप्रैती ने नाटक की बारीकियों की चर्चा करते हुए कहा कि मंच पर बेहतर प्रदर्शन के लिए कलाकार के संप्रेषण, मंच सज्जा आदि में सामंजस्य रखना बहुत जरूरी है। तभी नाट्य प्रस्तुति दर्शकों के दिल में उतर सकती है।
महोत्सव में सबसे पहले डीईआई के टैक्नीकल कॉलेज के विद्यार्थियों ने राजा भोज के न्याय देने की प्रवृत्ति पर आधारित हिंदी नाटक ‘सिंहासन बत्तीसी’ प्रस्तुत किया। इस नाटक के कथानक के अनुसार, राजा भोज को अपने न्याय और अपने मंत्रिगण पर अत्यन्त अभिमान था।

Live TV

GMaxMart.com

Our Visitor

1189228
Hits Today : 2013