उत्तर प्रदेश लेख साहित्य

गणपति प्रभाती ५

विद्या बुद्धि प्रदान कर, आप बढ़ाएं ज्ञान।
जिसके उचित प्रयोग से, सब पाते सम्मान।।13
सुखकर्ता प्रभु आप बन, जीवन रहे सँवार।
बन दुखहर्ता हर रहे, संकट कई हज़ार।।14
कृपा दृष्टि जब आपकी, पाता घर परिवार।।
काम क्रोध मद नाश कर, रचें सुखी संसार।।15

कर्नल प्रवीण त्रिपाठी, नोएडा/उन्नाव, 14 सितंबर 2021

Live TV

GMaxMart.com

Our Visitor

1247149
Hits Today : 1257