आगरा उत्तर प्रदेश

अखिल भारतीय जाट महा सभा आगरा का कलक्ट्रेट में जोरदार नारेबाजी कर प्रदर्शन,दिये दो ज्ञापन।

आगरा। जाट समाज के बहुत ही सम्मानित नेता झुॅझुनूं से 5-बार के सांसद, 8-बार विधायक रहे, 1968में पद्मश्री से सम्मानित, पूर्व केन्द्रीय मन्त्री स्व शीशराम ओला जी के प्रति आजतक न्यूज चैनल पर अभद्र टिप्पणी करने वाले भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री गौरव भाटिया पर कार्यवाही किये जाने की माॅग की लेकर व निर्माणाधीन शिवाजी म्यूजियम का नाम महाराजा सूरजमल के नाम पर रखे जाने की मांग को लेकर आज अखिल भारतीय जाट महा सभा आगरा ने कलक्टरेट में जोरदार नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। जाट समाज के कार्यकर्ताओं ने गौरव भाटिया मुर्दाबाद, गौरव भाटिया होश में आओ, महाराजा सूरजमल अमर रहें-अमर रहें, जाट समाज का अपमान नहीं सहेंगे-नहीं सहेंगे आदि जोशीली नारे लगाये।
गौरव भाटिया पर कार्रवाई किए जाने की मांग को लेकर प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन व आगरा में निर्माणाधीन पहले मुगल म्यूजियम अब शिवाजी म्यूजियम का नाम भरतपुर रियासत के पूर्व महाराजा व 1761 में मुगल साम्राज्य से आगरा को 681 वर्ष बाद मुक्त कराने वाले भरतपुर नरेश महाराजा सूरजमल के नाम पर किए जाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी की अनुपस्थिति में अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम आर्य को दिया।जिसे जाट महासभा के जिलाध्यक्ष कप्तान सिह चाहर ने पढकर सुनाया।
प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन में भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री गौरव भाटिया के खिलाफ जाट समाज के पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री शीशराम ओला के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी करने पर सख्त कार्रवाई की मांग की ।
जाट महासभा ने अपने दूसरे ज्ञापन में प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी से निर्माणाधीन मुगल म्यूजियम का नाम शिवाजी म्यूजियम करने के नाम पर पुनर्विचार करने की अपील की है और मांग की है कि निर्माणाधीन म्यूजियम का नाम महाराजा सूरजमल म्यूजियम किया जाए। क्योंकि महाराजा सूरजमल ने 681 वर्ष बाद आगरा को 1761 में मुगलों से मुक्त करा कर आगरा सहित आसपास की जनता को मुगलिया अत्याचारों से मुक्ति दिलाई थी, महाराजा सूरजमल उनके पुत्र महाराजा जवाहर सिंह व महाराजा रतन सिंह ने आगरा किले पर 14 वर्ष तक शासन किया और आगरा में अनेक सुंदर निर्माण कार्य कराए जिनमें मंदिरों सहित बावड़ी, धर्मशालाएं आदि हैं यह अनेक इतिहासकारों की पुस्तकों में पढ़ने को मिलता है ।
ज्ञापन में जाट महासभा ने कहा है कि शिवाजी महाराज का जाट महासभा बहुत ही सम्मान करती है लेकिन आगरा की जनता के लिए और आगरा के लिए शिवाजी महाराज का कोई भी योगदान पढ़ने को नहीं मिलता है न ही कोई साक्ष्य मिलता है मात्र मनसबदारी के लिए शिवाजी महाराज और उनके पुत्र संभाजी राव को औरंगजेब के बुलावे पर आगरा लाया गया था, जिसमें उनको उचित मनसबदारी न मिलने पर नाराज होने पर औरंगजेब ने कैद करने का हुक्म दिया था और उन्हें कोठी मीना बाजार के पास एक जगह कैद किया गया था इसके अलावा कोई भी साक्ष्य आगरा में शिवाजी महाराज का नहीं मिलता है
आगरा के जाने-माने इतिहासकार राज किशोर शर्मा (राजे) की ‘पुस्तक यह कैसा इतिहास, पेज नंबर 140 और यदुनाथ सरकार की पुस्तक ‘शिवाजी ,पेज नंबर 84 के अनुसार शिवाजी और उनकी सेना ने सूरत की पहली लूट के दौरान 10 जून 1664 को आगरा के एक बूढ़े बनिया का दाया हाथ काट कर उनके 40 बैल गाड़ियों में रखे कपड़ों को जला दिया था आगरा के बूढ़े बनिया का क्या कसूर था मात्र इतना क्योंकि उसके पास सोना चांदी नहीं था , 40 गाड़ियों में रखा गया कपड़ा जो सूरत बेचने को ले जाया गया था वह बिका नहीं था। ऐसे अत्याचार शिवाजी महाराज के द्वारा किए गए। यह आगरा की जनता का अपमान होगा, और उनके नाम पर संग्रहालय का नाम किसी भी दृष्टि में उचित नहीं होगा।
ज्ञापन में जाट महासभा ने कहा है कि यदि उक्त दोनों मांगों पर विचार नहीं किया गया तो जाट महासभा गांव गांव पंचायतें कर आंदोलन को बाध्य होगी ।आज के प्रदर्शन का नेतृत्व जिला अध्यक्ष कप्तान सिंह चाहर ने किया । प्रदर्शन में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कुंवर शैलराज सिंह एड, राष्ट्रीय सचिव डा सुरेन्द्र सिंह व ओपी वर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष चौधरी गोपीचंद, जिला उपाध्यक्ष जयप्रकाश चाहर, वीरेंद्र छोंकर, चौधरी दिलीप सिंह,मुकेश पहलवान, व भूपेन्द्र सिंह राणा महामंत्री रामवीर नरवार ,युवा जाट महासभा के जिला प्रभारी देवेंद्र सिंह चाहर(पूर्व ब्लाॅक प्रमुख) जिला अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी रालोद की जिलाध्यक्ष कुसुम चाहरव चौ नैम सिंह, किसान नेत्री सावित्री चाहर, पूर्व जिला पंचायत सदस्य अरविंद चाहर , जाट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रेम सिंह सोलंकी, महामंत्री गुलबीर सिंह, यतेंद्र सिंह चाहर,जाट समाज पत्रिका के सम्पादक राजेन्द्र सिंह फौजदार ,सुनील कुमार, चौ हरेन्द्र सिंह, जितेन्द्र खिरवार, चरण सिंह सिकरवार, चौधरी निरंजन सिंह ,नेत्रपाल सिंह एडवोकेट, दलवीर सिंह रावत, रणधीर सिंह चाहर, सतीश भगौर, किशन सिंह चाहर डॉक्टर नेत्रपाल सिंह, हाकिम सिंह ,आसाराम चौधरी,दीवान सिंह,धनन्जय सिंह, भूपेन्द्र इन्दौलिया, विजयभान सिंह देशवाल आदि प्रमुख थे

Live TV

GMaxMart.com

Our Visitor

1258086
Hits Today : 2704